Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in comments
Search in excerpt
Search in posts
Search in pages
Search in groups
Search in users
Search in forums
Filter by Categories
Duty
Love
Uncategorized
Universalism
Wisdom
What is Universalism
June 5, 2015
271
images

What is Universalism?

Universalism is to eliminate pain from our life and fill our life with happiness. Founding words of Universalism are Wisdom, Love and Duty. In this world there is no one who is not suffering from either some pain or who is not continuously trying to work for happiness in life. These pain cheap football kits and pleasures may be of any type- physical, emotional, mental, financial or spiritual. These pain and pleasurescan be personal, professional or social. In last few years I made efforts to know the main cause of pain and pleasure and after lot of study, discussion and research, I have concluded that there are mainly cheap football shirts 3 reasons for our suffering or not getting happiness. These are not new. Every religion and philosophy has taught them but we keep on forgetting and there is need to continuously remind them.

From the point of importance, first basic reason for suffering is lack of wisdom. Ample information and knowledge is available at touch of finger but what we lack is wisdom i.e. an ability to take right decisions at the right time, in right circumstances and with the right people. It is easy to choose cheap football tops between right and wrong. But it is very difficult to choose between right and more right or wrong and more wrong. Our greed, selfishness, jealousy and fears do not allow us to think rationally and act wisely.

Second basic cause of our suffering is not doing our duty. In life we get many roles. Role of son, daughter, parent, spouse, employee, employer, colleague, neighbor, citizen, friend etc. but we fail to understand about our duty as per our role. We decide our duty according on our own benefit/convenience rather than according to our role. Over-doing any duty can be as harmful as not doing our duty. Sometimes we decide our duty based on the response of other party. We give excuse that if other person is not doing his/her duty then why shall I do my duty. Doing your duty irrespective of the situation is the key to happiness.

Third but most important basic reason for our suffering is lack of love. Due to greed, jealousy, selfishness and fear, we have forgotten to love. We love only those people who fulfill our expectations or we have hope that our expectations will be fulfilled. Giving unconditional love is nowhere seen. It may not be possible to love all but at least we can take a vow that we will not hate anyone. The person whom we hate occupies more rent free space in our mind and thoughts as compared to person we love.

Among wisdom, duty and love; wisdom is supreme quality we need to have because quality of our duty and love cannot be Cheap Manchester United football shirts better than quality of our knowledge and wisdom. If you agree with me then let us take oath:

I pledge to my supreme almighty that:
1. I will enhance my Cheap Barcelona football shirts wisdom continuously.
2. I will perform my duty in every situation.
3. I will love all living beings unconditionally.
4. I will always promote these principles.

यूनिवर्सलिज़म क्या हैं ?

इस संसार में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं जिसने कभी दुँख का अनुभव नहीं किया हैं ओर हर व्यक्ति हर पल प्रयत्नशील रहता है कि उसे सुख प्राप्त होता रहे। ये सुख और दुख शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, सामाजिक, आत्मिक या ओर भी किसी प्रकार के हो सकते है। ये सुख और दुख निजी, व्यवसायिक या सार्वजनिक जीवन के बारे में हो सकते है। मैंने पिछले कुछ वर्षों में इस बारे में अध्ययन, चर्चा, मंथन एवं चिंतन करने का प्रयत्न किया और ये जानने कि कौशिश की कि सुख और दुख का मूल कारण क्या है। सब धर्मों एवं विचारधाराओं का अध्ययन करने का प्रयत्न किया। इस सब मंथन एवं चिंतन से जो कुछ समझ आया उसमें नया कुछ भी नहीं है या ऐसा कुछ नहीं है जिसे आप नहीं जानते है। लेकिन हम रोज की आपाधापी मे इन मूल कारणों को भुल जाते है। किसी भी समस्या का समाधान तब संभव हो जाता है जब हमें उसके मूल कारण पता हो। अबतक के चिंतन से मुझे समझ आया है कि हमारे हर सुख एवं दुख के ३ मूल कारण है।

मूल कारणों कि महत्ता के अनुसार अगर मे अपनी बात कहना चाहु तो सबसे पहला कारण है ज्ञान, ज्ञान कि कमी। सिर्फ़ जानकारी होना ज्ञान नहीं है। आज के युग में हर प्रकार की जानकारी गुगल पर उपलब्ध हैं लेकिन हम फिर भी समय, व्यक्ति एवं परिस्तिथि के अनुसार उचित निर्णय नहीं कर पाते हैं। हमारे स्वार्थ, ईर्ष्या, भय आदि हमारी बुद्धि को कुंठित कर देते है एवं हम अन्यायपूर्ण व्यवहार करने लग जाते हैं। सही एवं ग़लत के बीच निर्णय करना तो फिर भी आसान होता हैं लेकिन सही एवं ज़्यादा सही तथा ग़लत एवं ज़्यादा ग़लत के बीच निर्णय अत्यंत कठिन होता है व एसे निर्णय के लिये उच्च कोटि के ज्ञान की आवश्यकता होती हैं। यह बुद्धिमत्ता हमें मिलती है हमारे संस्कारो, शिक्षा एवं अनुभव से।

दूसरा मूल कारण है हमारे कर्म। जीवन एक रंगमंच है व हर पल हमें अलग अलग तरह की भूमिका निभानी पड़ती है। अकसर हम हमारी सही भूमिका पहचानने में विफल हो जाते है एवं अपने कर्तव्य का पालन नहीं कर पाते है या फिर हम एसे कर्म भी कर लेते है जो हमारे कर्तव्य की सीमा से बाहर है। हमारी अज्ञानता हमें हमारे सही कर्तव्य को पहचानने में बाधक हो जाती है। कर्तव्य से अधिक करना भी उतना ही दुखदायी बनाता है जितना कि कर्तव्य से कम करना। कई बार हमें हमारे कर्तव्य की जानकारी होती है लेकिन हम सिर्फ़ इसलिये अपने कर्तव्य का पालन नहीं करते है कि सामने वाला व्यक्ति अपने कर्तव्य का पालन नहीं कर रहा है। हमें हर परिस्तिथि मे अपने कर्तव्य को पहचान कर अपने कर्तव्य का पालन करते रहना चाहिये।

तीसरा लेकिन बहुत ही महत्वपूर्ण कारण है प्रेम की कमी। स्वार्थ, ईर्ष्या एवं भय ने हमारे जीवन से प्रेम को लगभग समाप्त ही कर दिया है। निस्वार्थ प्रेम तो देखने को ही नहीं मिलता हैं। हम प्रेम सिर्फ़ उसे ही देते है जो हमारी अपेक्षाएँ एवं आकांक्षाएँ पुरी करता है या पुरी करने की आशाएँ दिलाता है। अगर प्रेम करना कठिन है तो हम इतना तो कर ही सकते है कि किसी से नफ़रत या घ्रणा न करे। जब हम किसी को नापसंद करते है तो वह व्यक्ति हमारे मन एवं मस्तिष्क में ज़्यादा जगह बना लेता है।

प्रेम, ज्ञान एवं कर्म में ज्ञान सर्वोपरी है क्योंकि प्रेम एवं कर्म कि उत्तमता ज्ञान कि उत्तमता से बेहतर नहीं हो सकती। अगर आप मेरी बात से सहमत है तो हम आज शपथ ले कि:

मैं अपने ईश्वर को साक्षी मान कर शपथ लेता हुँ कि:
१) मैं निरंतर अपने ज्ञान मे वृद्धि करुंगा।
२) मैं हर परिस्थिति में अपने कर्तव्य का पालन करुंगा।
३) मैं हर जीव को निस्वार्थ प्रेम करुंगा।
४) मैं इन सिद्धांतों का प्रचार करता रहूँगा।

cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap france football shirts  |
cheap france football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap real madrid football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football shirts  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football kits  |
cheap football shirts  |
cheap Spain football shirts  |
cheap football kits  |

Leave a reply

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>